• यात्रा अवधि
    09 दिन
  • यात्रा प्रारम्भ
    लखनऊ
  • यात्रा समाप्ति
    लखनऊ
  • यात्रा प्रकार
    समूह में
  • यात्रा खर्च
    रु 175000 से आरंभ

लखनऊ से हेलीकाप्टर द्वारा कैलाश मानसरोवर यात्रा

लखनऊ से शुरू होने वाली कैलाश मानसरोवर की पवित्र यात्रा सिमिकोट और हिल्सा (नेपाल) के रास्ते फ्लाइट और हेलीकाप्टर से कि जाती है I हिल्सा के रास्ते श्रद्धालु बस या जीप द्वारा चीन में प्रवेश करते है और सड़क मार्ग से मानसरोवर झील एवं कैलाश पर्वत के पवित्र दर्शन करते I 09 दिन लम्बी यह हेलीकाप्टर यात्रा कैलाश मानसरोवर दर्शनों के लिए सबसे छोटी सामान्य यात्रा मानी जाती है I वीज़ा की उपलब्धि दिल्ली स्थित चीन दूतावास से होने के कारण मुख्यतः भारतीय मूल के निवासी ही लखनऊ एवं नेपालगंज से इस हेलीकाप्टर यात्रा में भाग ले सकते है I गैर भारतीय पर्यटकों को वीज़ा नेपाल की राजधानी काठमांडू में स्थित चीनी दूतावास से प्राप्त होता है इसलिए उनको यह यात्रा काठमांडू से ही प्रारम्भ करनी होती है I

आइये इस वर्ष भगवान् शिव के साक्षात दर्शनों हेतु प्रभु के संसार कैलाश पर्वत चलें और स्वयं ब्रह्मा द्वारा निर्मित मानसरोवर झील में पवित्र स्नान का सौभाग्य प्राप्त करें I मैक्स हॉलीडेज के कर्मी दल सभी श्रद्धालुओं को कैलाश मानसरोवर यात्रा का निमंत्रण देते है और आशा करते है की सभी कठिनाइयों और विपरीत परिस्थितियों का सामना करते हुए हम आपकी सम्पूर्ण और सफल यात्रा का आयोजन कर पाएंगे I


कैलाश मानसरोवर लखनऊ से हेलीकाप्टर का कार्यक्रम
01 दिन

लखनऊ से नेपालगंज

सुबह निर्धारित किये गए समय पर सभी यात्रीजन लखनऊ के चार बाघ रेलवे स्टेशन / लखनऊ एयरपोर्ट पर पहुंच जायेंगे जहां से कैलाश यात्रियों का जत्था बस द्वारा नेपालगंज के लिए रवाना हो जाएगा I 04 घंटे के इस सफर के दौरान हमारे कर्मचारी और गाइड बस में आपके जल पान की व्यवस्था करेंगे I कुछ समय के लिए बस सुबह की चाय के लिए रुकेगी I नेपालगंज सीमा पहुंचने पर सीमा पार करने के लिए जरुरी औपचारिकताओं को पूरा करके जत्था नेपालगंज होटल पहुंचेगा जहां यात्रियों के आराम और रात के भोजन की व्यवस्था की गई है I रात के भोजन से पूर्व हमारे अधिकारीगण होटल में यात्रा पर जा रहे सभी भक्तो के मिलने और आप सबको यात्रा सम्बंधित महत्वपूर्ण जानकारी देने की व्यवस्था करेंगे I
02 दिन

नेपालगंज से सिमिकोट

सुबह जल्दी नाश्ता करके यात्रिओं का जत्था फ्लाइट द्वारा सिमिकोट के लिए रवाना होगा I सिमिकोट नेपाल की पर्वत श्रृंखलाओं में स्थित एक छोटा और खूबसूरत पर्यटक स्थल है जो नेपालगंज से केवल फ्लाइट के माध्यम से जुड़ा हुआ है I यहाँ मौसम में परिवर्तन बहुत अकस्मात् होता है जिसके कारण नेपालगंज और सिमिकोट के बीच का हवाई मार्ग बाधित होता है I और यात्री कई बार कई कई दिनों तक फ्लाइट उड़ने का इंतज़ार करते है I इसके इलावा कैलाश यात्रा के दौरान अधिक यात्रियों के आने और फ्लाइट की सुविधाओं में कमी होने के कारण भी ऐसा होता है I इन समस्याओं के कारण भी इस यात्रा को दुर्गम माना जाता है और इनपर हमारा कोई नियंत्रण नहीं है I सिमिकोट पहुंच कर रात का भोजन और विश्राम करने का उत्तम प्रबंध हमारे नेपाली कार्यदल के सदस्य करेंगे I
03 दिन

सिमिकोट - हिलसा - ताकलाकोट

सुबह जल्दी उठकर अथवा गाइड द्वारा दिए गए समय पर हम सिमिकोट एयरपोर्ट पहुचेगे जहा से हेलीकाप्टर द्वारा यात्रियों को हिलसा ले जाने की व्यवस्था की जाएगी I हिलसा चीन सीमा (बॉर्डर) पर स्थित नेपाल का एक बहुत छोटा सा क़स्बा है जहा पर्यटन के लिए सुविधाओं का अत्यंत अभाव है I इसलिए हिलसा पहुंच कर सीमा पार करने की औपचारिकताओं को संपन्न कर हम चीन के शहर ताकलाकोट जाने की तैयारी करेंगे I यदि सभी कार्य समय से संपन्न हुए तो सीमा पार कर जत्था तकलाकोट पहुंचेगा जहाँ रात का भोजन और विश्राम करने की व्यवस्था हमारे कर्मी दल करेंगे I आज रात यहाँ यात्रीगण न केवल विश्राम करेंगे बल्कि खुद को ऊँचे पर्वतीय स्थल की जलवायु के अनुकूल ढालेंगे I
04 दिन

ताकलाकोट

आज का दिन ताकलाकोट में वातावरण के अनुकूल खुद को ढालने के लिए रखा गया है I आप ताकलाकोट में टहल सकते है, वहां के बाजार में घूमने का आनंद के सकते है अथवा ट्रैकिंग का अभ्यास करके खुद को कैलाश पर्वत की ट्रैकिंग के लिए तैयार कर सकते है I यदि सभी यात्रियों का स्वस्थ्य सही रहा तो चीनी गाइड से सलाह करके पुरे जत्थे को सुबह ही अगले गंतव्य मानसरोवर ले जा सकते है I
05 दिन

ताकलाकोट से मानसरोवर झील

सुबह का नाश्ता करके आज यात्री मानसरोवर झील के लिए प्रस्थान करेंगे I रास्ते में मानसरोवर पहुंचने से पूर्व कैलाश पर्वत की पहली झलक मिलेगी I मानसरोवर से पूर्व चेक-पोस्ट पर कुछ औपचारिकताओं का निर्वाह कर हम मानसरोवर झील के पास स्थित अतिथि गृह (गेस्टहॉउस) पहुंचेंगे I ताकलाकोट से मानसरोवर की इस यात्रा के दौरान कैलाश पर्वत के प्रथम दर्शन होते है, यात्रा के दौरान मानसरोवर पहुंचने से पहले आपकी बस राक्षस ताल नामक झील के समीप आ कर रूकती है जहा से कैलाश पर्वत और झील का मनमोहक दृश्य देखने को मिलता है कुछ समय यहाँ बिताने के पश्चात जत्था मानसरोवर के लिए रवाना होगा I रात को विश्राम करने और भोजन करने की सब व्यवस्था हमारे कर्मीदल करेंगे I
06 दिन

कैलाश परिक्रमा का पहला दिन)

मानसरोवर झील में पूजा अर्चना एवं स्नान के उपरान्त यात्रियों का जत्था कैलाश पर्वत की तलहटी में स्थित दारचेन शहर के लिए रवाना होगा I आज कैलाश पर्वत की परिक्रमा का पहला दिन है I बस यात्रियों को दारचेन से 7 किलोमीटर दूर स्थित यम द्वार (मोक्ष द्वार) ले जाएगी जो कैलाश पर्वत की परिक्रमा के लिए ट्रैकिंग शुरू करने का स्थान है ‘यम द्वार’ से यात्री पैदल अथवा घोड़े से अपनी परिक्रमा शुरू करेंगे I 12 किलोमीटर की परिक्रमा 3-5 घंटे अथवा अधिक समय में संपन्न की जाती है I आज की ट्रैकिंग का गंतव्य स्थान ‘धीरापुख’ है जो इस सम्पूर्ण यात्रा में एक अत्यंत महत्वपूर्ण, सुन्दर और धार्मिक दृष्टि से पवित्र स्थल है I धीरापुख से कैलाश पर्वत उत्तर मुख के अत्यंत समीप दर्शन करने का सौभाग्य प्राप्त होता है जो की अत्यंत सुखदायी एवं मोहक होता है I रात को सोने और भोजन की व्यवस्था गेस्टहॉउस में की जाएगी I
07 दिन

परिक्रमा का दूसरा दिन

सुबह जल्दी उठ के स्वर्णिम कैलाश (गोल्डन कैलाश) के दर्शन करना न भूलें I सूर्य की प्रथम किरण के साथ रंग बदलते कैलाश पर्वत के दर्शन दुर्लभ है और सौभाग्य वालों को ही यह अवसर प्राप्त होता है I नाश्ते के पश्चात यात्रियों का जत्था कैलाश पर्वत की दूसरे दिन की परिक्रमा के लिए रवाना होगा I कैलाश मानसरोवर यात्रा का यह सबसे कठिन और लम्बा रास्ता है I 22 किलोमीटर की परिक्रमा के दौरान कैलाश परिक्रमा के सबसे ऊँचे स्थान ‘डोलमा-ला’ को पार करना अत्यंत दुर्गम माना गया है I पथरीले और ऊँचे-नीचे रास्तों से होते हुए यह रास्ता आपको ‘गौरी कुंड’ के दुर्लभ दर्शन कराता है I गौरी कुंड के दर्शनों के उपरान्त यात्री अपने आज के गंतव्य स्थल ‘जुथुलपुख’ के लिए रवाना हो जायेंगे जहाँ रात के भोजन और विश्राम की व्यवस्था की जाएगी I
08 दिन

जुथुलपुख से ताकलाकोट, परिक्रमा का तीसरा दिन

सुबह के नाश्ते के पश्चात जत्था वापिस दारचेन पहुंचने के लिए ट्रैकिंग आरम्भ करेगा I 8 किलोमीटर की परिक्रमा के उपरांत यात्री-जन दारचेन पहुंचेंगे जहाँ से बस द्वारा ताकलाकोट के लिए प्रस्थान करने की व्यवस्था होगी I रात के भोजन और विश्राम की व्यवस्था ताकलाकोट में की जाएगी I
09 दिन

ताकलाकोट से नेपालगंज - लखनऊ

नाश्ते के उपरांत चीन - नेपाल सीमा (हिलसा) से हेलीकप्टर द्वारा सिमिकोट और फ्लाइट द्वारा नेपालगंज की यात्रा संपन्न की जाएगी I नेपालगंज से लखनऊ की यात्रा बस द्वारा संपन्न की जाएगी I


यात्रा खर्च - लखनऊ से हेलीकाप्टर द्वारा कैलाश यात्रा
राष्ट्रीयता यात्रा खर्च अन्य शुल्क
भारतीय रु 175,000 चीनी वीज़ा - पैकेज की लागत में शामिल
तिब्बत प्रवेश पत्र - पैकेज की लागत में शामिल
नेपाल वीज़ा - जरूरत नहीं है
यात्रा बीमा - उम्र के अनुसार अतिरिक्त
Kailash Yatra by Helicopter from Lucknow Cost

INR 175,000

Other Charges
Chinese Visa - Included in package cost
Tibet Permit - Included in package cost
Nepal Visa - Not required
Travel Insurance - Extra as per age



2020 यात्रा प्लान - लखनऊ से हेलीकाप्टर द्वारा
यात्रा महीने यात्रा प्रारम्भ यात्रा समाप्ति टिप्पणियों सुझाव और प्रश्न
जून'2020 01st जून 09th जून पूर्णिमा बुकिंग का अनुरोध करें
  05th जून 13th जून   बुकिंग का अनुरोध करें
  12th जून 20th जून   बुकिंग का अनुरोध करें
  19th जून 27th जून   बुकिंग का अनुरोध करें
  26th जून 04th जुलाई   बुकिंग का अनुरोध करें
जुलाई'2020 02nd जुलाई 10th जुलाई पूर्णिमा बुकिंग का अनुरोध करें
  10th जुलाई 18th जुलाई   बुकिंग का अनुरोध करें
  17th जुलाई 25th जुलाई   बुकिंग का अनुरोध करें
  24th जुलाई 02nd Aug   बुकिंग का अनुरोध करें
  30th जुलाई 07th Aug पूर्णिमा बुकिंग का अनुरोध करें
Aug'2020 07th Aug 15th Aug   बुकिंग का अनुरोध करें
  14th Aug 22th Aug   बुकिंग का अनुरोध करें
  21st Aug 29th Aug Full Moon at Manasarovar बुकिंग का अनुरोध करें
  29th Aug 06rd Sep पूर्णिमा बुकिंग का अनुरोध करें

व्यय समावेश - कैलाश मानसरोवर यात्रा

यात्रा पर 03 रातें नेपाल और 05 रातें चीन के होटल / गेस्टहॉउस में ठहरने की व्यवस्था
नेपालगंज से सिमिकोट और वापिस आने की फ्लाइट व्यवस्था,
सिमिकोट से हिलसा और वापिस आने के लिए सांझा हेलीकाप्टर
तिब्बत में रुकने के लिए गेस्ट हाउस / होटल की साँझा व्यवस्था,
यात्रा के दौरान सभी दिन शाकाहारी भोजन की व्यवस्था,
यात्रा के दौरान सामान ढोने के लिए वाहन,
इंग्लिश और हिंदी बोलने वाला नेपाली गाइड,
इंग्लिश बोलने वाला चाइनीस गाइड की व्यवस्था,
यात्रा के लिए सभी आवश्यक परमिट,
कैलाश मानसरोवर जाने के लिए आवश्यक चीन का वीज़ा,
प्राथमिक चिकित्सा की व्यवस्था,
परिक्रमा के दौरान खाने पीने का सामान ढोने के लिए याक,
मैक्स हॉलीडेज की तरफ से यात्रा सामान ले जाने के लिए आवश्यक बैग,
डाउन जैकेट (इस्तेमाल के बाद वापिस करे जाने की शर्त पर),

घर से लखनऊ पहुंचने और वापिस जाने की व्यवस्था, इन्शुरन्स ( यात्रा एवं स्वस्थ्य बीमा) यात्रा में देरी अथवा किसी प्रकार के परिवर्तन से आने वाले होटल, खाने, गाडी इत्यादि का खर्च, आपातकालीन स्थिति में आने वाला किसी भी प्रकार का खर्च, 5% भारत सर्कार का कर (टैक्स ), इसके इलावा कोई भी ऐसी सर्विस या वस्तु जो हमारे ऊपर लिखे याता खर्च समन्वय का हिस्सा नहीं है वह हमारी जिम्मेदारी नहीं है I

आवश्यक सुचना - यह यात्रा गैर भारतीय यात्रियों / पर्यटकों के लिए उपयुक्त नहीं है क्यूंकि गैर-भारतीय यात्रियों को वीज़ा के लिए काठमांडू से यात्रा शुरू करनी होती है.



यात्रा चित्र एवं मानचित्र